क्रिस मौरिस को बिना दबाव के क्रिकेट लगता है उबाऊ

क्रिस मौरिस के लिए बिना दबाव के क्रिकेट उबाऊ है

क्रिस मौरिस के लिए बिना दबाव के क्रिकेट उबाऊ है

हरफनमौला क्रिस मौरिस (Chris Morris) के लिए बिना दबाव के क्रिकेट उबाऊ है. इसके साथ ही उन्हें लगता है कि रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (Royal Challengers) में उनकी भूमिका पर स्पष्टता से ही उन्हें अभी तक इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) में लगातार प्रदर्शन करने में मदद मिली है.

दुबई. हरफनमौला क्रिस मौरिस (Chris Morris) के लिए बिना दबाव के क्रिकेट उबाऊ है. इसके साथ ही उन्हें लगता है कि रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (Royal Challengers) में उनकी भूमिका पर स्पष्टता से ही उन्हें अभी तक इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) में लगातार प्रदर्शन करने में मदद मिली है. मौरिस की हमेशा इंडियन प्रीमियर लीग में काफी मांग रही है और दिल्ली कैपिटल्स के साथ चार सत्र खेलने के बाद वह अब आरसीबी में हैं.

क्रिस मौरिस वह मांसपेशियों में खिंचाव के कारण सत्र के शुरुआती चार मैचों में नहीं खेल पाए थे. चोट से उबरने के बाद मैदान में उतरे इस दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी ने तुरंत ही असर दिखाना शुरू किया और अब तक पांच रन प्रति ओवर के बेहतरीन इकोनॉमी रेट से पांच मैचों में नौ विकेट झटक लिए हैं.

IPL 2020: CSK को 10 विकेट से हरा कायरान पोलार्ड के नाम दर्ज हुआ यह खास रिकॉर्ड

यह पूछने पर कि इस सत्र में उनके लिए क्या कारगर रहा? तो मौरिस ने शुक्रवार को ऑनलाइन मीडिया कॉन्फ्रेंस में कहा, ”कोविड-19 के कारण लगा ब्रेक शरीर और मानिसक रूप से तरोताजा होने के लिए दोनों के लिए अच्छा था. फिर से खेलना अच्छा है और ऐसा सिर्फ योजना को लेकर स्पष्टता से हुआ कि किस तरह से इसका कार्यान्वयन किए जाने की जरूरत है.”33 साल के इस क्रिकेटर ने कहा, ”हम काफी ‘होमवर्क’ करते हैं. जब तक मैच होता है, हम जान जाते हैं कि क्या जरूरी है. हमारी योजना काफी स्पष्ट रही है और अगर कुछ गलत होता है तो बी योजना तैयार रहती है, अगर यह भी काम नहीं करती तो हमारे पास सी योजना होती है और यह भी विफल होती है तो मेरा ओवर भी खत्म हो जाता है (हंसते हुए).”

IPL 2020: हार के बाद महेंद्र सिंह धोनी ने पंड्या ब्रदर्स को दिया यह खास तोहफा

मौरिस ने कहा कि चोट के बाद रिहैबिलिटेशन का समय उनके लिए काफी मुश्किल था, लेकिन सहयोगी स्टाफ ने इसे काफी आसान बना दिया. उन्होंने कहा, ”इतना महत्वपूर्ण महसूस करना हमेशा अच्छा होता है. मेडिकल स्टॉफ ने शानदार काम किया. यह मेरे लिए नई चोट थी. जब मैं बल्लेबाजी कर रहा था तो मेरे पेट की मांसपेशी अकड़ गई. साढ़े चार हफ्ते काफी मुश्किल थे.”

मौरिस ने कहा, ”मेरे कमरे में उपचार के लिए एक मशीन थी. मैं प्रत्येक दो घंटे में बर्फ लगाता. यह काफी मुश्किल समय था और अब बिना दर्द के खेलकर सचमुच काफी खुश हूं.” शुरू में और डेथ ओवरों में गेंदबाजी के बारे में पूछने पर मौरिस ने कहा, ”ईमानदारी से कहूं तो मुझे लगता है कि मैं अच्छी स्थिति में हूं. बिना किसी दबाव के क्रिकेट उबाऊ है. बतौर क्रिकेटर आप हमेशा अपनी परीक्षा चाहते हो.”



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *