मर्दों के स्पर्म काउंट को कम कर सकती है शराब, जानें विज्ञान क्या कहता है

जब शराब (Alcohol) और प्रजनन क्षमता (Fertility) की बात आती है, तब ध्यान अक्सर महिलाओं पर केंद्रित होता है. हम गर्भवती होने के बाद शराब पीने के हानिकारक प्रभावों के बारे में जानते हैं, लेकिन क्‍या आप जानना चाहते हैं कि शराब पुरुष प्रजनन क्षमता (Male Fertility) को कैसे प्रभावित कर सकती है. क्या यह आपके लिए बड़ी बात है? क्या आपको भी इसकी चिंता करनी चाहिए? हां, हमें इसकी चिंता करनी चाहिए, क्योंकि यह यौन स्वास्थ्य (Sexual Health) को प्रभावित कर सकती है. यह पुरुषों और महिलाओं दोनों में बांझपन (Infertility) का कारण हो सकती है.

कितनी मात्रा पुरुष प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकती है
वर्तमान समय में दुनिया भर में पार्टी में शराब का उपयोग आम है, लेकिन भारी मात्रा में शराब पीने से स्वास्थ्य पर इसका प्रभाव ज्यादा होता हैं. रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के अनुसार लगभग 35 प्रतिशत पुरुष और महिलाओं में बांझपन के कारकों की पहचान की गई. अध्ययन में बताया गया कि लगातार ज्यादा मात्रा में शराब पीने से शुक्राणु पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता हैं. एक सप्ताह में 14 या इससे अधिक बार पेय लेने से टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम हो सकता है और शुक्राणुओं की संख्या प्रभावित हो सकती है.

शराब शुक्राणु और पुरुष प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करती हैशराब शुक्राणुओं की संख्या, आकार, आकृति और गतिशीलता में परिवर्तन करके प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकती है. ज्यादा मात्रा में शराब का सेवन करने से शुक्राणु उत्पादन कम हो सकता है और इसके साथ ही नपुंसकता या बांझपन हो सकता है. वीर्यकोष सिकुड़ जाता है, जिसके कारण नपुंसकता या बांझपन हो सकता है.

ये भी पढ़ें – कोरोना वायरस से पड़ रहा पुरुषों के सेक्स हॉर्मोन्स पर असर, जानिए

हैंड सैनिटाइजर
क्या हैंड सैनिटाइज़र का स्पर्म पर असर पड़ता है? एक अध्ययन में पाया गया कि जीवाणुरोधी पदार्थ ट्रिक्लोसन शुक्राणुओं की संख्या को कम कर सकता है. बार-बार कुछ रसायनों के संपर्क में आने से शुक्राणु को नुकसान हो सकता है. शुक्राणु पर जीवाणुरोधी पदार्थ के प्रभाव की पुष्टि करने के लिए अधिक अध्ययन की आवश्यकता है.

शराब महिला प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करती है
हाल ही में किए गए एक अध्ययन के अनुसार नियमित रूप से ज्यादा मात्रा में शराब पीने से महिला प्रजनन क्षमता कम हो सकती है, क्योंकि ज्यादा शराब से मासिक धर्मचक्र और ओव्यूलेशन बाधित हो सकती है और साथ ही डिम्बग्रंथि में परिवर्तन हो सकता है. जिससे गर्भधारण होने की संभावना कम हो सकती है. गर्भावस्था के दौरान अल्कोहल हानिकारक है.

पुरुष अपनी प्रजनन क्षमता को कैसे बढ़ाएं
एक स्वस्थ जीवन शैली प्रजनन क्षमता को बढ़ाने का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है. अत्यधिक शराब का सेवन, तनाव, चिंता, अधिक वजन और धूम्रपान करना आपके स्वास्थ्य के साथ आपके प्रजनन क्षमता को नुकसान पहुंचा सकता है. एक अध्ययन में पाया गया कि जो लोग अच्छे आहार का सेवन करते है, उनके शुक्राणु की गुणवत्ता अधिक अच्छी हैं. यह विशेष रूप से अधिक फल, सब्जियां, समुद्री भोजन और अनाज खाने वालों पर किया गया था. पुरुषों को अपनी प्रजनन क्षमता बढ़ाने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए और अच्छी नींद के साथ तनाव ग्रस्त नहीं रहना चाहिए. चिकित्सक के साथ अपनी पोषण संबंधी आवश्यकताओं पर जानकारी लेनी चाहिए.

ये भी पढ़ें – कोरोना रोकने में मददगार है फेस मास्‍क, 25 फीसदी कम हुए मामले

डॉक्टर से कब मिले
जीवनशैली, दवाएं और हार्मोनल या आनुवांशिक स्थितियां सभी बांझपन का कारण हो सकती है. आमतौर पर एक पुरुष हार्मोन विश्लेषण और वीर्य विश्लेषण अंतर्निहित मुद्दों की पहचान कर सकता है. आप होम टेस्ट किट भी प्रयोग में ला सकते हैं. हालांकि इस किट से आप केवल अपने स्पर्म को काउंट कर सकते हैं. ये आपको बांझपन के अन्य संभावित कारणों जैसे शुक्राणु की गुणवत्ता के बारे में नहीं बताते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *