Another scheme for farmers, Government started Kisan Udaan yojna to transport fruit and vegetables | किसानों के लिए बड़ी सौगात, शुरू हुई ‘किसान उड़ान’ योजना, आधे रेट में होगी फल, सब्जियों की ढुलाई

नई दिल्ली: किसान अपनी फसल को देश के कोने कोने में सस्ती दरों पर और तेजी के साथ पहुंचा सकें, इसके लिए सरकार ने किसान रेल (Kisan Rail) की शुरुआत की थी. अब एक कदम आगे बढ़ते हुए किसान अपनी सब्जियां और फल फ्लाइट से भेज सकें, इसके लिए ‘किसान उड़ान’ (Kisan Udaan) सेवा की शुरुआत की जा रही है. आपको बता दें कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने इस साल बजट में किसान उड़ान का ऐलान किया था. 

आपको बता दें कि ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ (Atmanirbhar Bharat) और ऑपरेशन ग्रीन (Operation Green) के तहत फल व सब्जियों समेत किसानों के फल, सब्जियों को देश के कई हिस्सों में पहुंचाने के लिए किसान रेल योजना की शुरुआत की गई थी. जिसका रिस्पॉन्स सरकार को काफी अच्छा मिला है. 

क्या है ‘किसान उड़ान’ स्कीम 

सरकार ने किसानों की आमदनी 2022 तक दोगुना करने का लक्ष्य रखा है. 2 साल में इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए सरकार कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती, इसलिए बीते कुछ महीनों में किसानों की फर्टिलाइज के लिए अलग से फंड बनाने, MSP बढ़ाने, फार्म बिल जैसे कई बड़े कदम उठाने के बाद मोदी सरकार ने पूर्वोत्तर राज्यों के ताजा फल-सब्जियों को देश के कोने-कोने तक पहुंचाने के लिए किसान उड़ान सेवा की शुरुआत की है, जिसके तहत किसानों को हवाई किराए में छूट दिए जाने का प्रावधान किया गया है. 

किराए में मिलेगी 50 परसेंट की छूट 

‘किसान उड़ान’ सर्विस के तहत फूड प्रोसेसिंग उद्योग मंत्रालय (Food Processing Industries Ministry) ने पूर्वोत्तर और हिमालयी राज्यों को फल-सब्जियों के हवाई माल भाड़े में 50 प्रतिशत छूट देने का फैसला किया है. यानि फल-सब्जियों के किराए का आधा हिस्सा मंत्रालय खुद वहन करेगा. एयरलाइंस माल सप्लाई करने वाले, माल भेजने या उसे हासिल करने वाले और एजेंटों को तय माल भाड़े में सीधे 50 परसेंट की छूट देंगी. एयरलाइं बाकी 50 परसेंट माल भाड़े का दावा सीधे मंत्रालय से कर सकेंगी.

मंत्रालय के मुताबिक आत्मनिर्भर भारत अभियान (Atmanirbhar Bharat) के ऑपरेशन ग्रीन (Operation Green) के तहत ‘टॉप टू टोटल’ योजना (TOP to TOTAL) में 41 फल और सब्जियों के लिए पूर्वोत्तर और हिमालयी राज्यों के किसी भी इलाके से हवाई जहाज से माल ढुलाई में छूट दी जाएगी. इनकी ढुलाई के लिए हवाई अड्डों को भी चुन कर नाम जारी कर दिए गए हैं. 

इन एयरपोर्ट से होगी ढुलाई

फल-सब्जियों की जिन हवाई अड्डों से ढुलाई होगी उनमें अरुणाचल प्रदेश, असम, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, सिक्किम (बागडोगरा) और त्रिपुरा हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और केंद्र शासित क्षेत्र जम्मू व कश्मीर और लद्दाख के एयरपोर्ट को चुना गया है. 

कहां के किसानों को होगा फायदा 

इस किसान उड़ान योजना से सबसे ज्यादा फायदा पूर्वोत्तर राज्यों जैसे अरुणाचल प्रदेश, असम, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, सिक्किम, त्रिपुरा, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के किसानों को फायदा होगा. 

इन फल-सब्जियों की होगी ढुलाई 

ऑपरेशन ग्रीन (Operation Greens) की ‘टॉप टू टोटल’ योजना (TOP to TOTAL) में जिन फलों की ढुलाई की जाएगी उनमें आम, केला, अमरुद, कीवी, लीची, मौसंबी, संतरा, किन्नू, लाइम, नीबू, पपीता, अनन्नास, अनार, कटहल, सेब, बादाम, आंवला, पैसन फ्रूट, पीयर, स्वीट पोटैटो और चीकू शामिल हैं. सब्जियों में फ्रेंच बींस, करेला, बैंगन, शिमला मिर्च, गाजर, फूलगोभी, हरी मिर्च, ओकरा खीरा, हरी मटर, लहसुन, प्याज, आलू, टमाटर, बड़ी इलायची, कद्दू, अदरक, पत्तागोभी, स्क्वैश और हल्दी शामिल हैं.

ये भी पढ़ें: Godrej ग्रुप की ये कंपनी दे रही है देश में सबसे सस्ता होम लोन! जानिए क्या है रेट

LIVE TV



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *