KKR Young Bowler Kamlesh Nagerkoti told how Pat Cummins advice benefited him in IPL 2020| कमलेश नागरकोटी ने किया खुलासा, ऑस्ट्रेलिया के इस गेंदबाज का टिप्स काम आया

नई दिल्ली: अपनी पीठ की चोट की वजह से कुछ सालों तक क्रिकेट से दूर रहे केकेआर के तेज गेंदबाज कमलेश नागरकोटी (Kamlesh Nagerkoti) ने आईपीएल 2020 (IPL 2020) के 10 मैच खेले हैं और खुद को टॉप लेवल के लिए तैयार किया है, खासकर ऑस्ट्रेलिया के बेहतरीन गेंदबाज पैट कमिंस (Pat Cummins) से मिली सीख की बदौलत. आईपीएल में दोनों ही गेंदबाज कोलकाता नाइटराइडर्स (KKR) के लिए खेले थे.

यह भी देखें- VIDEO: जब शर्ट उतारकर Prithvi Shaw के पीछे ठुमके लगाने लगे Shikhar Dhawan

कुछ दिनों में राष्ट्रीय क्रिकेट एकेडमी के लिए रवाना होने वाले नागरकोटी ने कहा, ‘शुरुआत में थोड़ी घबराहट थी, क्योंकि मैं लंबे समय बाद खेल रहा था. मैं बड़े मंच पर खेल रहा था और मेरे ऊपर दबाव था, लेकिन मैंने अनुभवी खिलाड़ियों से बात की थी कि दबाव को कैसे कम किया जाता है, कैसे इससे बाहर निकला जाता है और कैसे इससे बाहर निकला जाता है.’

नागरकोटी ने खासतौर पर कमिंस से इस बात पर सलाह ली कि चोट के दौरान मानसिकता किस तरह की रखनी चाहिए. 27 साल के कमिंस को भी अपने करियर की शुरुआत में चोटें लगी थीं. 2011 में डेब्यू करने के बाद कमिंस ने 5 साल बाद 2017 में वापसी की थी.

नागरकोटी ने कहा, ‘मैंने कमिंस से पूछा था कि उन्होंने चोट के समय को कैसे गुजारा था. उन्होंने मुझसे कहा था कि ऐसा कभी नहीं होगा कि तुम हमेशा फिट रहो, लेकिन जब यह चोट की स्थिति आती है, तब सबसे अहम होता है कि आप किस तरह से सकारात्मक रहते हैं. उन्होंने कहा था कि अगर आपको हाई लेवल पर क्रिकेट खेलनी है तो, मायने नहीं रखता कि आप जीवन में किस तरह के हालात का सामना करते हो, आपको सकारात्मक रहना होगा. मुझे कमिंस से मिलकर सकारात्मक महसूस हुआ और यह शानदार था.’

युवा अवस्था में ही 140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गेंद फेंक सुर्खियां बटोरने वाले नागरकोटी ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज और बाकी के अन्य सीनियरों ने उन्हें तैयारी करने में मदद मिली. उन्होंने कहा, ‘एक सलाह जो मुझे काफी पसंद आई, वो यह थी कि अगर गेंदबाज अच्छी तरह तैयारी करता है, अपने प्लान के बारे में जानता है, गेंदबाज जानता है कि वह अच्छी गेंदें डाल सकता है और उसने अच्छे से अभ्यास किया है, तो वो डरेगा नहीं और वह खेल में हमेशा सकारात्मकता लेकर जाएगा.

कमलेश ने कहा, मुझसे कहा गया था कि यह मत सोचो की तुम रन लुटाओगे, या मैंने अच्छी गेंदबाजी नहीं की. जब आप गेंदबाजी करते हैं, आपको पता होना चाहिए कि आपके प्लान क्या हैं.’ कमिंस से एक और चीज जो नागरकोटी ने सीखी वो थी मुश्किल स्थिति में स्टॉक डिलीवरी. नागरकोटी की स्टॉक डिलीवरी गुड लैंग्थ से आउट स्विंगर है. उन्होंने घरेलू क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट इसी गेंद पर लिए हैं.

उन्होंने कहा, ‘कमिंस ने मुझसे कहा था कि मुझे आत्मविश्वास हासिल करने और सकारात्मकता बनाए रखने के लिए स्टॉक गेंद करनी होगी. ये वो गेंद है जिस पर मैं ज्यादा रन नहीं गंवाता. इसलिए यह हमेशा मेरे दिमाग में रहता है. आप जब भी रन लुटाए तो आपको स्टॉक गेंद का इस्तेमाल करें.’

दाएं हाथ के इस युवा गेंदबाज ने कहा, “मैंने वैरिएशन को लेकर उनसे ज्याद कुछ नहीं सीखा, लेकिन उनसे बात की, वह कटर गेंद अच्छे से डालते हैं. मैंने उनसे पूछा था कि वह गेंद को कैसे पकड़ते हैं, कैसे डालते हैं, उन्होंने मुझे बताया कि कैसे हमारे अलग-अलग एक्शन के कारण हमें इसे अलग-अलग तरह से करना होता है.’ आईपीएल में नागरकोटी ने 10 मैचों में पांच विकेट ही लिए. उन्होंने कहा कि बेशक उन्हें ज्यादा विकेट नहीं मिले हों, लेकिन वह भविष्य में अच्छा करेंगे. चोट से वापसी करने के बाद उन्होंने डीवाई पाटिल टूर्नामेंट भी खेला.

उन्होंने कहा, ‘मैंने ज्यादा विकेट नहीं लिए, लेकिन अगली बार जब मुझे मौका मिलेगा तो मुझे पता है कि विकेट कैसे निकालने हैं और मुझे किस तरह की गेंदें डालनी हैं. मैं अलग-अलग तरह की गेंदें डालना भी सीख रहा हूं. इस समय मैं धीरे-धीरे अपने काम को बढ़ा रहा हूं. आईपीएल से पहले में 4 ओवर फेंकता था जिसमें टी-20 के हिसाब से गेंदें जैसे यॉर्कर शामिल रहती थीं लेकिन अब मैं एक दिन में 8 से 10 ओवर डाल रहा हूं.’

नागरकोटी को भारतीय टीम के साथ ऑस्ट्रेलिया के लिए बतौर नेट गेंदबाज रवाना होना था, लेकिन बीसीसीआई ने उनके काम के बोझ को मैनेज करने के लिए भारत में ही रोक लिया. युवा गेंदबाज ने कहा, ‘मैंने बीसीसीआई से बात की थी कि मैंने कितने ओवर फेंके हैं और आगे कितने ओवर फेंकने हैं. चिंता की बात यह थी कि चूंकि यह लंबा दौरा है और टी-20, वनडे सीरीज भी खेली जानी हैं, इसलिए काम का बोझ बढ़ जाएगा. मुझे अभी भी धीरे-धीरे लंबे स्पैल फेंकने पर काम करना होगा.’
(इनपुट-आईएएनएस)



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *