एमएस धोनी ने भरोसा तो जताया, पर उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे CSK के युवा

एमएस धोनी को आउट करने के बाद जश्न मनाते राहुल चाहर.

एमएस धोनी को आउट करने के बाद जश्न मनाते राहुल चाहर.

चेन्नई सुपरकिंग्स का शुक्रवार को मुंबई इंडियंस से मुकाबला हुआ. चेन्नई प्लेइंग इलेवन में 3 बदलाव के साथ उतरी. धोनी ने पिछले मैच के बाद युवाओं में जोश की कमी की बात कही थी. इस पर उनकी आलोचना हुई. शायद यही कारण रहा हो कि उन्होंने इस मैच में 2 युवाओं ऋतुराज गायकवाड़ और नारायण जगदीशन को एक साथ ही मौका दे दिया.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    October 23, 2020, 8:47 PM IST

नई दिल्ली. चेन्नई सुपरकिंग्स का आईपीएल 2020 (IPL 2020) में खराब प्रदर्शन जारी है. मिडास टच के लिए मशहूर सीएस के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का भी कोई फैसला इस बार उम्मीद नहीं जगा पा रहा है. सच तो यह है कि धोनी को इतना असहाय कभी नहीं देखा गया. वे सीनियर खिलाड़ियों को आजमाएं या युवाओं को मौका दें, अंत में नाकामी ही हाथ लगती है. मुंबई इंडियंस के खिलाफ भी कुछ ऐसा ही हुआ. उन्हें ना सिर्फ सीनियर साथियों ने निराश किया, बल्कि युवा ऋतुराज गायकवाड़ (Ruturaj Gaikwad) और नारायण जगदीशन (N Jagadeesan)भी उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे.

चेन्नई सुपरकिंग्स का शुक्रवार को मुंबई इंडियंस से मुकाबला हुआ. चेन्नई ने इस मैच के लिए अपनी प्लेइंग इलेवन में तीन बदलाव किए. धोनी ने पिछले मैच के बाद युवाओं में जोश की कमी की बात कही थी. इस पर उनकी आलोचना हुई. शायद यही कारण रहा हो कि उन्होंने मुंबई के खिलाफ टीम के दो युवाओं ऋतुराज गायकवाड़ और नारायण जगदीशन को एक साथ ही मौका दे दिया. यह आईपीएल 2020 में पहला मौका था जब ये खिलाड़ी साथ खेलने उतरे.

चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम टॉस हारकर पहले बैटिंग करने उतरी. ऋतुराज गायकवाड़ को फाफ डू प्लेसी के साथ ओपनिंग करने का मौका मिला. लेकिन गायकवाड़ खाता भी नहीं खोल सके. वे पहले ही ओवर में आउट हो गए. दूसरे ओवर में टीम के अनुभवी बल्लेबाज अंबाती रायडू भी चलते बने. उनकी जगह लेने के लिए सीएसके के दूसरे युवा एन जगदीशन उतरे. लेकिन यह युवा भी उम्मीदों पर खरा नहीं उतरा. जगदीशन पहली ही गेंद पर आउट हो गए.

इस तरह सीनियरों से निराश चेन्नई सुपरकिंग्स को उसके युवा खिलाड़ियों ने भी कोई उम्मीद नहीं जगाई. एक और बात. चेन्नई को तीन बार चैंपियन बनाने वाले कप्तान एमएस धोनी की युवाओं में जोश और जुनून की कमी वाले बयान के लिए चाहे जितनी आलोचना हुई हो. कम से कम मुंबई इंडियंस के खिलाफ तो धोनी का अनुभव ही सब पर भारी पड़ा है. हालांकि, चेन्नई सुपरकिंग्स के प्रशंसक चाहेंगे कि टीम के युवा खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन करें ताकि वह प्वाइंट टेबल में सबसे नीचे रहने की बेइज्जती’ से बच सके.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *