ऑस्‍ट्रेलिया के सामने कोहली की मजबूत टीम के खिलाफ गुलाबी गेंद क्रिकेट में दबदबा रखने की चुनौती

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 17 दिसंबर से टेस्ट सीरीज का आगाज (BCCI/Twitter)

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 17 दिसंबर से टेस्ट सीरीज का आगाज (BCCI/Twitter)

भारत और ऑस्‍ट्रेलिया (India vs Australia) के बीच गुरुवार से एडिलेड में गुलाबी गेंद से पहला टेस्‍ट मैच खेला जाएगा. मैच से एक दिन पहले टीम इंडिया की प्‍लेइंग इलेवन का भी ऐलान कर दिया गया है

एडिलेड. भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) और उनकी ‘निर्भीक’ टीम गुरुवार को यहां शुरू होने वाले पहले डे नाइट टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के गुलाबी गेंद के क्रिकेट में दबदबे को कड़ी चुनौती देने की कोशिश करेगी, जबकि मेजबान टीम दो साल पहले की हार का बदला लेने को तैयार है, हालांकि उसके कई खिलाड़ी चोटों की समस्या से जूझ रहे हैं. पहले टेस्‍ट में विराट कोहली बनाम स्‍टीव स्मिथ (Steve Smith), चेतेश्‍वर पुजारा बनाम मार्नस लाबुशेन के बीच मुकाबला देखने को मिलेगा. जोश हेजलवुड बनाम मोहम्मद शमी मुकाबला भी काफी रोमांचक होगा, जबकि पैट कमिंस के बाउंसर का जवाब जसप्रीत बुमराह अपने यॉर्कर से देना चाहेंगे.

जहां टीम इंडिया को इशांत शर्मा (Ishant Sharma) जैसे अनुभवी तेज गेंदबाज की कमी खलेगी तो वहीं ऑस्ट्रेलियाई लाइन-अप को अपने स्टार डेविड वॉर्नर की कमी खलेगी, जिससे दोनों टीमें मजबूती के हिसाब से बराबरी पर ही दिखती हैं. हालांकि ऑस्ट्रेलियाई टीम को ज्यादा दिन-रात्रि टेस्ट खेलने का अनुभव है और उसे घरेलू परिस्थितियों का फायदा निश्चित रूप से मिलेगा. दिन-रात्रि टेस्ट मैच की अपनी खासियत है जिसमें बल्लेबाजों के पहले सत्र में हावी होने की उम्मीद होती है, जबकि जब सूरज छिप जाता है तो गेंदबाजों की तूती बोलती है क्योंकि गुलाबी कूकाबूरा की रफ्तार तेज हो जाती है.

शॉ करेंगे ओपनिंग
वहीं भारतीय टीम के पास विभिन्न स्थानों के लिए इतने सारे विकल्प कभी नहीं होते थे, लेकिन भारतीय कप्तान कोहली ने स्पष्ट किया कि शुभमन गिल और केएल राहुल को अपने मौकों का इंतजार करना होगा, क्योंकि टीम प्रबंधन ने सलामी बल्लेबाज के स्थान के लिए फॉर्म से बाहर चल रहे पृथ्वी शॉ के साथ बने रहने का फैसला किया है.वहीं विकेटकीपर के स्थान पर ऋद्धिमान साहा को विस्फोटक ऋषभ पंत पर तरजीह दी गई. सीरीज की तैयारियों के दौरान दोयम दर्जे के ऑस्ट्रेलियाई ए आक्रमण के खिलाफ दूधिया रोशनी में पंत की 73 गेंद में खेली गई 100 रन की पारी की तुलना में साहा ने मुश्किल परिस्थितियों में लाल गेंद से प्रथम श्रेणी मैच में अर्धशतकीय पारी खेली थी.

खतरनाक साबित हो सकते हैं नटराजन
साथ ही उमेश यादव को तीसरे तेज गेंदबाज के तौर पर अपना स्थान वापस मिला जो अभ्यास मैच में उनके अच्छे प्रदर्शन के कारण हुआ. मंगलवार को भारत के शीर्ष बल्लेबाजों को एडिलेड के नेट पर गुलाबी कूकाबूरा से टी नटराजन की अंदर आती गेंदों से परेशानी हो रही थी.

यह भी पढ़ें : 

Ind vs Aus: लक्ष्‍मण की बड़ी बात, कहा- कोहली को कप्‍तानी में सुधार की जरूरत

IND vs AUS: टीम इंडिया के Playing XI की वो 5 बातें, जिससे हर कोई हैरान है

अगर नटराजन की 130 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से उन्हें इतनी परेशानी हो सकती है तो गुलाबी गेंद के टेस्ट में दुनिया के सर्वाधिक विकेट चटकाने वाले स्टार्क कितने खतरनाक हो सकते हैं. कभी कभार कम विकल्प में से चयन करना आसान होता है और कोहली उम्मीद करेंगे कि वह सही विकल्पों का चयन करें ताकि अजिंक्य रहाणे उनके ब्रेक के बाद भारत को यही दोहराने में मदद कर सकें.



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *