यात्रीगण कृपया ध्यान दें! 22 अक्टूबर को ट्रेन का सफर करने से पहले इस खबर को जरूर पढ़ लें

नई दिल्लीः कोरोना काल और फेस्टिव सीजन (Festive Season) के दौरान 22 अक्टूबर को ट्रेन (Indian Railways) में यात्रा करने से पहले यात्री इस खबर को जरूर पढ़ लें. अगर आपने इस खबर पर गौर नहीं किया तो फिर आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. मीडिया रिपोर्ट्स के जरिए रेलवे के ज्यादातर कर्मचारी 22 अक्टूबर को 2 घंटे की हड़ताल पर जा रहे हैं. इसके लिए कर्मचारियों के संगठनों ने इसके लिए सरकार को धमकी भी दी है. इस दौरान पूरे देश में रेलवे की कोई ट्रेन नहीं चलेगी और वो बीच रास्ते में भी खड़ी हो सकती हैं. ऐसे में यात्रियों को तय समय पर पहुंचना मुश्किल हो सकता है. 

इन संगठनों ने लिया है इस वजह से निर्णय
दरअसल देशभर में कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के कारण रेलवे कर्मचारियों को अभी तक बोनस (Bonus) नहीं मिला है, जिससे वे नाराज हैं. ऑल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन (All India Railways Men Federation) से जुड़े संगठनों ने पूरे देश में हड़ताल की चेतावनी दी है. यहां चर्चा कर दें कि रेलवे कर्मचारी संघ ने कुछ दिन पहले धमकी दी थी कि दुर्गा पूजा के शुरू होने से पहले दिया जाने वाला बोनस (productivity linked bonus) जारी नहीं किया जाता है तो कर्मचारी इसके खिलाफ विरोध दर्ज करेंगे.

हो रही है बोनस देने में अनावश्यक देरी
कर्मचारी संगठनों का कहना है कि रेलवे बोर्ड लाखों कर्मचारियों को उत्पादकता बोनस देने में अनावश्यक देरी कर रहा है. इसको लेकर के बीते मंगलवार को विरोध प्रदर्शन भी हुआ था. अखिल भारतीय रेलवेमेंस फेडरेशन ने कहा कि अगर बोनस तत्काल जारी नहीं किया गया तो वह विरोध को और तेज करने के लिए मजबूर होंगे और सीधा कार्रवाई करेंगे.

आठ लाख कर्मचारी प्रभावित
बोनस न देने से आठ लाख कर्मचारी प्रभावित हैं. आपको बता दें कि कोरोना से बचाव के नाम पर पहले ही कर्मचारियों की डेढ़ साल के लिए महंगाई भत्ते के इजाफे में पर रोक लगाने का काम किया गया है. इस साल दीपावली से पूर्व कर्मियों को डीए का एरियर भी नहीं प्राप्त होगा.

ईसीआरकेयू (ECRKU) के अपर महामंत्री डीके पांडेय और पूर्व सहायक महामंत्री संतोष तिवारी ने बताया कि एआईआरएफ के इस आह्वान का पूर्ण समर्थन करते हुए रेल कर्मचारी हड़ताल की तैयारियों में जुट गए हैं. इससे पूर्व 20 अक्टूबर को बोनस डे मनाया. ऑल इंडिया रेलवेमैन फेडरेशन के महासचिव शिव गोपाल मिश्रा ने बताया कि अगर 21 अक्टूबर से पहले बोनस घोषित नहीं किया जाता है तो उन्हें हड़ताल पर जाना होगा. 1974 के बाद यह पहली बार होगा जब सभी ट्रेनों के पहिए देश भर में एक बंद हो जाएगा.

मध्य रेलवे के राष्ट्रीय रेलवे मजदूर संघ (NRMU) के महासचिव वेणु नायर ने भी बताया कि अगर रेलवे कर्मचारियों के लिए 21 अक्टूबर तक बोनस पर कोई उचित निर्णय नहीं लिया जाता है, तो वे दो घंटे के लिए ट्रेनों की आवाजाही रोक देंगे.

ये भी पढ़ेंः मात्र 789 रुपये में खरीद सकते हैं अपनी पसंदीदा गाड़ी, इस बैंक ने निकाला ऑफर

ये भी देखें—



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *