हानिकारक रसायनों से बचाव और पोषण के लिए घर पर उगाएं सब्जियां, मसाले

World Food Day 2020: दुनिया भर में लोगों को भोजन की महत्ता समझने और उसकी बर्बादी रोकने को प्रेरित करने के लिए हर साल 16 अक्टूबर को ‘विश्व खाद्य दिवस’ (World Food Day) के रूप में मनाया जाता है. 16 अक्टूबर, 1945 को खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) की स्थापना की गई थी और साल 1979 से हर वर्ष विश्व खाद्य दिवस मनाया जाता है. इस वर्ष एफएओ अपनी 75वीं वर्षगांठ मना रहा है. एफएओ, संयुक्त राष्ट्र (United Nations) की एजेंसी है जो अंतरराष्ट्रीय प्रयासों के माध्यम से दुनिया भर में भूख की समस्या को खत्म करने की दिशा में काम कर रही है. इसी क्रम में साल 2020 का थीम रखा गया है, ग्रो, नरिश, सस्टेन टूगेदर.

इस बार की थीम को कोविड-19 महामारी के प्रभावों को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है. जिससे अभियान के दौरान लोगों को भोजन और पोषण के महत्व के बारे में बताया जा सके. महामारी के चलते लगे लॉकडाउन ने लोगों को कई महीनों तक घरों में बंद रहने पर मजबूर कर दिया. नि:संदेह इस महामारी ने समस्याएं बढ़ा दी थीं, लेकिन ज्यादातर लोगों ने इस समय का सदुपयोग करते हुए घर पर ही खाद्य पदार्थों को उगाने की पहल की. आइए जानते हैं इसके क्या लाभ हैं?

घर पर ही खाद्य पदार्थों को उगाने के लाभवैसे तो ग्रामीण क्षेत्रों में घर पर ही सब्जियों-मसालों को उगाया जाता रहा है, लेकिन पिछले कुछ वर्षों में शहरी आबादी ने भी इस तरह की पहल की है. शहरी क्षेत्रों में लोगों ने बगीचों और खाली पड़ी जमीनों में सब्जियां और फल उगाने शुरू कर दिए हैं. कई अध्ययनों से पता चलता है कि घर पर ही जरूरी खाद्य सामग्रियों को उगाने के कई लाभ हो सकते हैं. जैसे यह पोषण को बढ़ावा देता है, सब्जियों-फलों को उगाने में शारीरिक व्यायाम हो जाता है, इस तरह की गतिविधियों को करने से तनाव-चिंता दूर रहती हैं और इतना ही नहीं यह आपके कॉग्नेटिव फंक्शन में भी सुधार करता है. माइक्रोग्रेन्स और सब्जियों जैसे दैनिक प्रयोग में आने वाले कई खाद्य पदार्थों को घर पर ही आसानी से उगाया जा सकता है.

माइक्रोग्रेन्स, हरी पत्तेदार सब्जियों की ही तरह होते हैं जिन्हें घरों पर आसानी से उगाया जा सकता है. इतना ही नहीं यह स्वाद और पोषण के मामले में भी काफी समृद्ध होते हैं. myUpchar से जुड़ी न्यूट्रीशियन और वेलनेस एक्सपर्ट आकांक्षा शर्मा बताती हैं कि संपूर्ण पोषण के लिए किचन गार्डनिंग सबसे अच्छा तरीका है. यदि आप अपने घर में जड़ी बूटियों और मसालों को उगा रहे हैं, तो इससे पहले तो आपको शुद्ध रूप में यह खाद्य पदार्थ मिल जाते हैं, दूसरा आप बहुत सारे हानिकारक रसायनों और खाद्य पदार्थों की मिलावट से बच सकते हैं.

ये भी पढ़ें – World Food Day 2020: क्‍यों मनाते हैं विश्व खाद्य दिवस

डॉ आकांक्षा कहती हैं, ‘मैं आमतौर पर सुझाव देती हूं कि हर किसी को अपने घर पर माइक्रोग्रेन उगाकर भोजन को अधिक स्वस्थ और पौष्टिक बनाने के लिए इन्हें सलाद, सैंडविच, जूस और सूप में रूप में इस्तेमाल करना चाहिए. इसी तरह अगर आप घर पर ही सब्जियां उगाते हैं तो हानिकारक कीटनाशकों, रासायनिक स्प्रे और इंजेक्शन से स्वयं को सुरक्षित रख सकते हैं. सबसे बड़ी बात आप घर पर ही ताज़ी, कम लागत वाली और पौष्टिक सब्जियां प्राप्त कर सकते हैं.

घर पर आसानी से उगाए जाने वाले पौधे
अगर आप पहली बार घर पर सब्जियां और मसालों को उगा रहे हैं तो यह कार्य चुनौतीपूर्ण हो सकता है. ऐसे में सबसे पहले उन पौधों को उगाने का प्रयास करना चाहिए जो आसानी से तैयार हो जाएं और जिनमें बहुत अधिक मेहनत न लगे. उदाहरण के लिए आप निम्न लिखित पौधों के साथ शुरुआत कर सकते हैं.

मसाले और जड़ी-बूटियां
सभी प्रकार के हर्ब में विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सिडेंट जैसे आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं. चूंकि ये आमतौर पर आकार में छोटे होते हैं ऐसे में इन्हें उगाना और इनकी देखरेख करना काफी आसान होता है्. आप घर पर आसानी से तुलसी, करी पत्ता, धनिया की पत्ती, लेमनग्रास, कलौंजी के पत्ते, ब्राह्मी और अजवायन जैसी जड़ी-बूटियां उगा सकते हैं.

ये भी पढ़ें – World Boss Day 2020: Covid 19 महामारी में वर्चुअली मनाएं बॉस डे

माइक्रोग्रीन्स
हरी पत्तेदार सब्जियों में उच्च मात्रा में डाइट्री फाइबर, विटामिन, खनिज, एंटीऑक्सिडेंट और प्रोटीन पाए जाते हैं. माइक्रोग्रीन्स, हरी पत्तेदार सब्जियों के छोटे रूप होते हैं साथ ही य​ह पोषक तत्वों से भरपूर भी होते हैं. इन्हें बालकनी और खिड़की पर आसानी से उगाया जा सकता है. आप आसानी से व्हीटग्रास, मूली, सूरजमुखी, गाजर, चुकंदर, पालक, गोभी, मेथी, मूंग, चना और हरी मटर को उगा सकते हैं.

सब्जियां
आप अपार्टमेंट में एक बार में बहुत सारी सब्जियां तो नहीं उगा सकते हैं, लेकिन कुछ सब्जियां ऐसी हैं जिन्हें आसानी से उगाया जा सकता है. बैंगन, टमाटर, लौकी, करेला, हरी मिर्च, प्याज, लहसुन और शिमला मिर्च जैसी सब्जियों को घर पर उगाना आसान होता है. इन सब्जियों को डाइट्री फाइबर, विटामिन, खनिज और आवश्यक एंटीऑक्सिडेंट जैसे कैरोटिनॉइड और फ्लेवोनोइड का बेहतर स्रोत माना जाता है.

बाजार में यह सभी सब्जियां और मसाले एक तो महंगे मिलते हैं साथ ही उनपर कई प्रकार के रसायनों का छिड़काव भी होता है. ऐसे में इन्हें आसानी से घरों पर ही उगाकर आप पैसे बचाने के साथ अपने स्वास्थ्य को भी उचित पोषण दे सकते हैं.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, वर्ल्ड फूड डे 2020: किचन गार्डन मेंटेन करने के हैं कई फायदे, शारीरिक, मानसिक और पोषण से जुड़े लाभ के बारे में जानें पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *