Karnataka schools to partially reopen in January: CM Yeddyurappa | कर्नाटक में 1 जनवरी से खुलेंगे स्कूल और कॉलेज, ऑनलाइन क्लास भी रहेंगी जारी

बेंगलुरु: कर्नाटक (Karnataka) सरकार ने शनिवार को प्री-यूनिवर्सिटी कॉलेजों (PUC) और स्कूलों में कक्षा 10 तक की कक्षाएं फिर से खोलने (School Reopen) और अपने प्रमुख विद्यागामा कार्यक्रम फिर से शुरू करने का फैसला किया है. यह कार्यक्रम 1 जनवरी से कक्षा 6 से 9 तक के छात्रों के लिए स्कूली शिक्षा जारी रखने में सक्षम बनाता है. स्कूल और कॉलेज कोविड-19 महामारी के कारण बंद थे. 

1 जनवरी से फिर खुलेंगे स्कूल

यह निर्णय मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा (BS Yediyurappa) की अध्यक्षता में एक उच्च-स्तरीय बैठक में लिया गया, जिसमें राज्य के स्कूलों और पीयू कॉलेजों को फिर से खोलने पर विचार किया गया. जनवरी में लगभग सात महीने के अंतराल के बाद स्कूल आंशिक रूप से फिर से खुलेंगे. मुख्यमंत्री ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि कोविड-19 के लिए कर्नाटक तकनीकी सलाहकार समिति ने उन्हें 1 जनवरी से स्कूलों को फिर से खोलने का सुझाव दिया था.

ये भी पढ़ें:- Farmers Protest: CM खट्टर ने की कृषि मंत्री से मुलाकात, ‘2-3 दिन में निकल जाएगा किसान आंदोलन का हल’

उन्होंने कहा, ‘उनकी सिफारिशों पर हमने लगभग 1 घंटा चर्चा की और सर्वसम्मति से 1 जनवरी से कक्षा 10 और 12 (दूसरी पीयूसी) वाले विद्यालयों को फिर से खोलने और विद्याग्राम कार्यक्रम के माध्यम से कक्षा 6 से 9 तक के छात्रों के लिए शिक्षा की व्यवस्था करने पर सहमति व्यक्त की.’ येदियुरप्पा ने एक ट्वीट में कहा कि 15 दिनों के लिए स्थिति की समीक्षा के बाद अन्य कक्षाओं के छात्रों के लिए स्कूलों को फिर से खोलने का निर्णय लिया गया है.

स्कूल में कोरोना नियमों को करना होगा पालन

उन्होंने कहा, ‘कक्षा 10 और दूसरा PUC दोनों महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि इन छात्रों को बोर्ड परीक्षा का सामना करना पड़ेगा. स्कूल और पीयू कॉलेज राष्ट्रीय लॉकडाउन के ठीक पहले मार्च से बंद हैं, जो पहले कोविड-19 का मुकाबला करने के लिए लागू किया गया था.’ प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा मंत्री एस. सुरेश कुमार ने कहा कि 1 जनवरी से स्कूल जब फिर से खुलेंगे, तो एसएसएलसी और पीयूसी परीक्षाओं के दौरान कोविड-19 मानक संचालन प्रक्रियाओं का पालन किया जाएगा.

परिजनों की लिखित अनुमति के बाद स्कूल में होगी एंट्री

मंत्री ने कहा, ‘जो छात्र स्कूलों या विद्यागामा में भाग लेना चाहते हैं, उनके अभिभावकों को सहमति पत्र देना होगा. विद्यागामा के लिए कक्षाएं सप्ताह में तीन दिन आयोजित की जाएंगी और स्कूल परिसर में ही इसका आयोजन किया जाएगा.’ एक सवाल के जवाब में, कुमार ने स्पष्ट किया कि सबके लिए स्कूलों में भाग लेना अनिवार्य नहीं है. जो लोग अपनी ऑनलाइन कक्षाएं जारी रखना चाहते हैं, वे जारी रख सकते हैं.

ये भी पढ़ें:- Amazon, Flipkart पर शुरू हुई क्रिसमस सेल, इन स्मार्टफोन पर मिल रहा 40% तक का डिस्काउंट

मंत्री ने कहा कि विद्यागामा सरकार का एक पेटेंट कार्यक्रम नहीं है और इसे किसी भी निजी स्कूल द्वारा दोहराया जा सकता है. उन्होंने कहा, ‘मुझे उम्मीद है कि वे इस कार्यक्रम को दोहराएंगे.’ एक सवाल के जवाब में कुमार ने कहा कि राज्य सरकार इन कक्षाओं में पढ़ने वाले छात्रों के लिए छात्रावासों को फिर से खोलने की योजना भी बना रही है.

LIVE TV



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *